About Us


Eklavvya Yuva Talent Hub


        आधुनिक युग में मनुष्य जीवन में आधुनिकरण के साथ-साथ परिवर्तित हो रहा है। चूकिं परिवर्तन ही सफलता का कुजीं है परन्तु आज के समय में यह निश्चय करना कठिन है कि कब, क्या और कैसे करे ?
     हमारे भारत वर्ष में पढाई के सबसे ज्यादा महत्व दिया जाता है और इसके पीछे का रहस्य औसतन यही रहता है कि यदि अच्छे से पढाई कि जाये तो अच्छी सी सरकारी नौकरी लग जायगी परन्तु आज की विषम परिस्थिति इस प्रकार है कि किसी एक नौकरी के लिये लाखों की तादात में आवेदन किये जाते है। ऐसी परिस्थिति में बेरोजगारी की स्थिति उत्पनं होना स्वाभाविक है। हमें इस बात को समझना पड़ेगा कि पढाई करके केवल नौकरी करना ही एक मात्र विकल्प नही है। इसके अलावा भी अन्य विकल्प है जिनसे हम सरकारी नौकरी से बेहतर परिणाम प्राप्त कर सकते है । आप अपने हुनर को पहचानकर, यदि सही समय पर सही प्रयास किया जाये तो सरकारी नौकरी से बेहतर सुविधा प्राप्त कर सकते है। आज के अधिकतर युवा अपने जबरदस्त हुनर के होते हुये भी बेरोजगारी का शिकार है।
     एकलव्य युवा टैलेंट हब, युवाओ  में खेल के प्रति जागरूकता लाने एंव उनके हनर को अधिक बेहतर बनाने एवं युवाओं को बेरोजगारी से निजात पाने, प्रतिभाओ को नया आयाम एवं विधार्थीयो को आनलाईन बिजनेसशिक्षा के लिए उचित मंच प्रदान कराने के लिये प्रयत्नशील है।
पढाई करके नौकरी करना अथवा हुनर के आधार पर बिजनेश सम्बन्धित करने जैसे विषय को इस प्रकार समझे-



           समाज की सलाह
               अमीरो की सलाह
·        कालेज जाओं।
·        बिजनेश/हुनर के पर कार्य करना शुरु करो।
·        9 से 5 जाबँ शुरू करो।
·        कमाई के नये-नये रास्ते बनाओँ
·        जिम्मेदारीयों खरीदों।
·        सम्पत्ति/ज्ञान खऱीदों।
·        पैसों के लिये काम करों।
·        ऐसा करे जिससे पैसा आपके लिये काम करे।
·        रिस्क मत लो।
·        रिस्क लो।
·        सप्ताह में 2 दिन आराम करों।
·        जिदंगी भर आजादी से जियों।



आप किन लोगो से सलाह लेते हो ?



     एकलव्य युवा टेलेंट हब एक ऐसी सोच है जो युवाओ को एक ऐसी दिशा देने के प्रयास कर रही है जहाँ वह स्व-रोजगार,हुनरमंद होकर अथवा अपने हुनर के दम पर समाज के सामने अपना सर फ़र्क से ऊपर उठा सके।


    तो आईये हमारे साथ और बनाये स्वयं व भारत वर्ष को बेरोजगार मुक्त भारत.....

Contact Us-

E-Mail   - infoekyth@gmail.com

Post a Comment