✅मापने वाले यंत्र

1) अल्टीमीटर → उंचाई सूचित करने हेतु वैज्ञानिक यंत्र

2) अमीटर → विद्युत् धारा मापन

3) अनेमोमीटर→ वायुवेग का मापन

4) ऑडियोफोन→ श्रवणशक्ति सुधारना

5) बाइनाक्युलर→ दूरस्थ वस्तुओं को देखना



6) बैरोग्राफ → वायुमंडलीय दाब का मापन

7) क्रेस्कोग्राफ→ पौधों की वृद्धि का अभिलेखन

8) क्रोनोमीटर → ठीक ठीक समय जान्ने हेतु जहाज में लगायी जाने वाली घड़ी

9) कार्डियोग्राफ → ह्रदयगति का मापन

10) कार्डियोग्राम → कार्डियोग्राफ का कार्य में सहयोगी


11) कैपिलर्स →दूरियां मापने का

12) डीपसर्किल → नतिकोण का मापन

13) डायनमो→ यांत्रिक ऊर्जा को विद्युत् उर्जा में बदलना

14) इपिडियास्कोप→ फिल्मों का पर्दे पर प्रक्षेपण

15) फैदोमीटर → समुद्र की गहराई मापना

16) गल्वनोमीटर → अति अल्प विद्युत् धारा का मापन

17) गाड्गरमुलर→ परमाणु कण की उपस्थिति व् जानकारी लेने हेतु
18) मैनोमीटर → गैस का घनत्व नापना
19) माइक्रोटोम्स→ किसी वस्तु का अनुवीक्षनीय परिक्षण हेतु छोटे भागों में विभाजित करता है।

20) ओडोमीटर → कार द्वारा तय की गयी दूरी बताता है।
21) पेरिस्कोप → जल के भीतर से बाहरी वस्तुएं देखि जाती हैं।
22) फोटोमीटर→ प्रकाश दीप्ति का मापन
23) पाइरोमीटर→ अत्यंत उच्च ताप का मापन

24) रेडियोमीटर → विकिरण द्वारा विकरित उर्जा का मापन

25) सीज्मोमीटर → भूकंप की तीव्रता का मापन

26) सेक्सटेंट → ग्रहों की उंचाई जानने हेतु

27) ट्रांसफॉर्मर → प्रत्यावर्ती धारा की वोल्टता में परिवर्तन करने हेतु
28) टेलीप्रिंटर→ टेलीग्राफ द्वारा भेजी गयी सूचनाओं को स्वतः छापने वाला यंत्र

31) टेलीस्कोप → दूरस्थ वस्तुओं को देखने में सहायक यंत्र

32) जाइरोस्कोप→  वस्तु की गतिकी का अध्ययन

33) ग्रेवीमीटर → जल में उपस्थित तेल क्षेत्रों का पता लगाना

35) कायमोग्राफ → रक्तदाब, धडकन का अध्ययन
36) कायनेस्कोप→ टेलीविजन स्क्रीन के रूप में
37) कैलिपर्स → छोटी दूरियां मापने वाला यंत्र

39) कार्ब्युरेटर → इंजन में पेट्रोल का एक निश्चित भाग वायु में भेजने वाला यंत्र
40) कम्पास→ दिशा ज्ञान हेतु प्रयुक्त



42) एपिकायस्कोप→ अपारदर्शी चित्रों को पर्दे पर दिखाना
43) एपिडोस्कोप → सिनेमा में पर्दे पर चित्रों को दिखाना
44) एस्केलेटर → चलती हुई यांत्रिक सीढियां

45) एक्सियरोमीटर → वायुयान का वेगमापक
46) एक्टियोमीटर → सूर्य किरणों की तीव्रता मापने का यंत्र

48) एक्युमुलेटर → विद्युत् उर्जा संग्राहक
49) ओसिलोग्राफ → विद्युत् अथवा यांत्रिक कम्पन सूचित करने हेतु

51) स्फिग्नोमैनोमीटर → धमनियों में रक्तदाब की तीव्रता ज्ञात करना।।
52) जीटा→ शून्य उर्जाताप नाभिकीय संयोजन

53) डेनियल सेल → परिपथ में विद्युत् उर्जा प्रवाहित करने हेतु

54) डिक्टाफोन → बातचीत रिकार्ड करके पुनः सुनाने वाला यंत्र

55) डायलिसिस → गुर्दे खराब होने पर रक्त शोधन हेतु

57) थर्मोस्टेट → ताप स्थाई बनाये रखने हेतु

59) हाइड्रोफोन → पानी के भीतर ध्वनि अंकित करना
60) स्पेक्ट्रोमीटर→प्रकाश का अपवर्तनांक ज्ञात करना
61) हाइड्रोमीटर→ द्रवों की आपेक्षिक आर्द्रता ज्ञात करना

63) स्टीरियोस्कोप → फोटो को पर्दे पर त्रिविमीय रूप में दिखाना

66) लैक्टोमीटर→ दूध की शुद्धता मापना

68) रेन गेज → वर्षा की मात्रा का मापन
69) रेडिएटर → वाहनों के इंजन को ठंडा रखना

70) रेफ्रिजरेटर:: विशेषतः खाद्य पदार्थों को ठंडा रखना

71) राडार → वायुयान की स्थिति ज्ञात करना

72) माइक्रोमीटर → अति लघु दूरियां नापना
73) मेगाफोन→ ध्वनि को दूरस्थ स्थानों पर ले जाना
74) बैटरी → विद्युत् उर्जा का संग्रहण




━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━
 आज का विज्ञान -✍

अन्तरिक्ष यात्री अन्तरिक्ष में भारहीनता का अनुभव क्यों करते हैं?
👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇

Ans: अन्तरिक्ष वायुमंडल रहित होता है अतः अन्तरिक्ष में रॉकेट तथा यान स्वतंत्र गति से गतिमान होते है उन पर कोई गुरुत्वाकर्षण बल कार्य नहीं करता है तो वे भारहीनता अनुभव करते हैं।

https://www.ekythpro.com/2020/05/yantra-name-work.html

Post a Comment

Previous Post Next Post