*कोशिका की संरचना*
1.कोशिका के अध्ययन को *साइटोलॉजी* कहते हैं
2. कोशिका की खोज सन *1665 में रॉबर्ट हुक* ने की थी
3. सन *1674 में सर्वप्रथम "ल्यूवेन हॉक" ने "जीवित कोशिका"* खोज की थी
4. "ल्यूवेन हॉक" ने *जीवाणु (बैक्टीरिया), प्रोटोजोआ,R.B.C तथा शुक्राणुओं* की खोज की थी
5. कोशिका सिद्धांत सन 1838-39 में जर्मन पादप वैज्ञानिक *"श्लाइडेन एवं जन्तु वैज्ञानिक श्वान"* ने प्रस्तुत किया था
6. सन 1831 में *"रॉबर्ट ब्राउन"* ने पादप कोशिका में *"केंद्रक"* की खोज की थी
7. कोशिका का *"समसूत्री विभाजन"* सन 1879 में
*"वाल्थर फ्लेमिंग"* द्वारा समझाया गया था
Note :- *एक कोशिकीय जीव:-* ऐसे जीवधारी जिनका शरीर केवल एक ही कोशिका से
बना होता है उन्हें एक कोशिकीय जीव कहते हैं
*Exp :-* *जीवाणु,अमीबा, पैरामीशियम, यूग्लीना, राइजोपस* नामक कवक आदि
 8. अमीबा में *"कंकाल"* नहीं पाया जाता है इसलिए अमीबा अपना *"आकार बदलता"* रहता है
9. पैरामीशियम के शरीर में *"दो केंद्रक"* पाए जाते हैं
10. यूग्लीना *"जंतु एवं पादप"* के बीच की योजक कड़ी होती है
 11. यूग्लीना को *ग्रीन प्रोटोजोआ* के नाम से जाना जाता है
*Note :-* विषाणु (वायरस) *"सजीव एवं निर्जीव"* के बीच की योजक कड़ी है
12. विषाणु की खोज *"इवानोवस्की"* द्वारा की गई थी
13. राइजोपस नामक कवक की कोशिका *"बहु केंद्रकीय"* होती है
 *बहुकोशिकीय जीव*- ऐसे जीवधारी जिनका शरीर बहुत सारी कोशिकाओं से मिलकर बना होता है उन्हें बहुकोशिकीय जीव कहते हैं
 Exp:- हाइड्रा, मनुष्य, मछली, मेंढक आदि
14. पादपों में सबसे लंबी कोशिका *"एसिटेबुलरिया"* नामक एक कोशिकीय शैवाल की होती है
15. पादपों में सबसे छोटी कोशिका *"माइकोप्लाजमा"* होती है
16. जंतुओ/प्राणियों में सबसे लंबी कोशिका *"शुतुरमुर्ग का अण्डा"* है
17. मानव शरीर की सबसे छोटी कोशिका *"शुक्राणु"* और सबसे बड़ी कोशिका *"अंडाणु"* है
18. मानव शरीर की सबसे लंबी कोशिका *"तांत्रिक तंत्र"(न्यूरॉन)* होती है
19. पादपों में *"प्रोकैरियोटिक कोशिका"* पाई जाती हैं
     *कोशिका भित्ति*
20. कोशिका भित्ति *"सेलुलोज"* की बनी होती है
*Note - सेलुलोज एक मात्र ऐसा पदार्थ जिसका पाचन मनुष्य नहीं कर सकता*
      *माइटोकॉन्ड्रिया*
21. माइटोकॉन्ड्रिया की खोज सन 1880 में सर्वप्रथम *"फोलीकर"*  ने कीटों की रेखित पेशियां में की थी
 *"बेण्डा"1897सर्वप्रथम माइटोकॉन्ड्रिया नाम दिया था*
22. यह एक दोहरी "झिल्ली युक्त"कोशिकांग"हैं
23. मनुष्य की श्वसन प्रक्रिया माइट्रोकांड्रिया में संपन्न होती है
 इसलिए इसे *कोशिका का श्वसन अंग* कहते हैं
24. माइटोकॉन्ड्रिया को कोशिका का *"शक्ति ग्रह"* कहते हैं
Note - माइट्रोकांड्रिया"जीवाणु तथा नीले हरे शैवालो"की कोशिकाओं को छोड़कर समस्त
"प्राणियों एवं पादपों"की समस्त कोशिकाओं में पाए जाते हैं
25. माइट्रोकांड्रिया की लंबाई *40 (um)माइक्रॉन* होती है

26.  माइट्रोकांड्रिया में भोजन का संचय *A.T.P(एडिनोसिन ट्राई फास्फेट)* के रूप में होता है
*लवक-* ये केवल "पादप कोशिकाओं" में ही पाए जाते हैं
लवक तीन प्रकार के होते हैं
*1.हरित लवक*
*2.वर्णिक लवक*
*3.अवर्णिक लवक*
27. हरित लवक को कोशिका का *"रसोईघर"* कहते हैं
28. लाइसोसोम को *पाचक थैली या"आत्मघाती थैली"* भी कहते हैं

Bacteria, Virus, Bacterial Species

Post a Comment

Previous Post Next Post